दुनिया के तमाम देशों में फिर पैर पसार रहा कोरोना वायरस! 7 दिन में मिले 36 लाख केस, 10 हजार मौतें

चीन समेत दुनिया के तमाम देशों में कोरोना ने फिर पैर पसारने शुरू कर दिए हैं। दुनिया में पिछले एक हफ्ते में कोरोना के 36 लाख मामले सामने आए हैं। वहीं इन 7 दिनों में 10 हजार लोगों की मौत हुई है। चीन के अलावा अर्जेंटीना, ब्राजील और जापान में बहुत तेजी से केस बढ़ रहे हैं। दुनियाभर में बढ़ रहे कोरोना के केसों के चलते भारत सरकार ने भी कोरोना पर एक समीक्षा बैठक बुलाई है।

पिछले 1 हफ्ते में दुनियाभर में 36 लाख केस
पिछले 7 दिनों में दुनियाभर में कोरोना के 3,632,109 केस सामने आए हैं. अकेले जापान में 1055578 केस मिले हैं। वहीं, दक्षिण कोरिया में 460,766, फ्रांस में 384184, ब्राजील में 284,200, अमेरिका में 272,075, जर्मनी में 223,227, हॉन्गकॉन्ग में 108577, चीन के पड़ोसी ताइवान में 107381 केस मिले हैं।

पिछले 7 दिन में 10 हजार की मौत
जापान में कोरोना से पिछले 7 दिन में 1670 लोगों की मौत हुई है। इसके अलावा अमेरिका में भी 1607 लोगों ने अपनी जान गंवाई है। वहीं दक्षिण कोरिया में 335, फ्रांस में 747, ब्राजील में 973, जर्मनी में 868, हॉन्गकॉन्ग में 226, ताइवान में 203, इटली में 397 लोगों की मौत कोरोना से हुई है।

कोरोना के कहर से तबाह चीन
चीन में कोरोना का कहर जारी है। चीन में हालात कंट्रोल से बाहर जाते दिख रहे हैं। यहां तेजी से मामले बढ़ रहे हैं। लेकिन चीन ने एक बार फिर कोरोना के आंकड़ों को छिपाना शुरू कर दिया है। उसकी ओर से कोई आंकड़े जारी नहीं किए जा रहे हैं। हालांकि, सोशल मीडिया के जरिये आ रही तस्वीरों में चीन में कोरोना का विस्फोट दिख रहा है।

अस्पतालों में बेड की कमी हो गई है। मरीजों का इलाज फर्श पर लेटाकर किया जा रहा है। डॉक्टर्स और नर्सिंग स्टाफ की कमी के साथ साथ दवा पर भी संकट गहराने लगा है। बुखार और सिरदर्द की कई जरूरी दवाएं चीन में आउट ऑफ स्टॉक हो गई है। हर रोज सैकड़ों लोग दम तोड़ रहे हैं। दावा ये भी किया जा रहा है कि कब्रिस्तानों में अंतिम संस्कार के लिए वेटिंग चल रही है। वहीं, विशेषज्ञों का दावा है कि चीन में 2023 में कोरोना विस्फोट हो सकता है. यहां लाखों लोगों की मौत हो सकती है।

भारत में भी अलर्ट
दुनियाभर में बढ़ रहे केसों को देखते हुए भारत सरकार भी अलर्ट पर आ गई है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने सभी राज्यों को अलर्ट भेजा है। सरकार ने सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों से कहा है कि वे नए कोविड पॉजिटिव मरीजों का सैंपल INSACOG प्रयोगशाला को भेजे ताकि वहां इस सैंपल का जिनोम सीक्वेंसिंग हो सके और अगर कोरोना का कोई नया वैरिएंट पनपता है तो उसे ट्रैक किया जा सके।

राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों को लिखे पत्र में, केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण ने कहा है कि इस तरह की कवायद से देश में मौजूद नए वैरिएंट, यदि कोई हो, का समय पर पता लगाने में मदद लेगी, और फिर इसके आधार पर केंद्र सरकार आवश्यक सार्वजनिक स्वास्थ्य उपायों की सुविधा प्रदान करेगी। बता दें कि इस वक्त केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय और INSACOG देश में कोरोना के ट्रेंड पर नजर रखे हुए हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Follow Us

Follow us on Facebook Follow us on Twitter Subscribe us on Youtube